IPC SECTION 375 | CVN NEWS

IPC SECTION 375- परिभाषा बलात्कार की !

Share this Post

हमारे देश भारत में किसी भी महिला से बलात्कार किया जाना, चाहे वह किसी भी उम्र या जाति की हो, भारतीय कानून के तहत गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है। इस संगीन अपराध को अंजाम देने वाले अपराधी को IPC में कड़ी से कड़ी सजा का प्रावधान दिया गया है। IPC SECTION 375 के अपराध के लिये IPC SECTION 376 के तहत सजा का प्रावधान भी दिया गया है। जब कोई पुरुष किसी महिला के साथ उसकी इच्छा के विरुद्ध, उसकी सहमति के बिना, उसे डरा धमका कर, दिमागी रूप से कमजोर या पागल महिला को धोखा देकर या उस महिला के शराब या नशीले पदार्थ के कारण होश में नहीं होने पर संभोग करता है, तो उसे बलात्कार कहते हैं। इसमें चाहे किसी भी कारण से संभोग क्रिया पूरी हुई हो अथवा नहीं, कानूनन वो बलात्कार की श्रेणी में ही रखा जायेगा।

IPC SECTION 375-

रेप की परिभाषशा : किसी व्यक्ति ने रेप किया यानी-

  • उस व्यक्ति ने किसी भी महिला के मुँह, योनि, गूदा, या मूत्रमार्ग में किसी भी हद तक अपने लिंग का प्रवेश करवाता है या किसी महिला उसके साथ या किसी और व्यक्ति के साथ ऐसा करने को कहता है, या
  • कोई व्यक्ति किसी महिला के मुँह, योनि, गूदा, या मूत्रमार्ग में अपने शरीर को किसी भी हद तक कोई भी अंग (बॉडी पार्ट) का प्रवेश कराता है या किसी महिला को उसके साथ या किसी अन्य व्यक्ति के साथ ऐसा करने को कहता है, या
  • एक महिला के किसी भी अंग को तोड़-मड़ोड़ के उसी के मुँह, योनि, गूदा , या मूत्रमार्ग में डालता है या खुद या किसी दूसरे व्यक्ति से ऐसा करने को बोलता है, या
  • कोई व्यक्ति किसी महिला के मुँह, योनि, गूदा, या मूत्रमार्ग में अपने मुँह को किसी भी हद तक डालता है या किसी महिला को उसके साथ या किसी अन्य व्यक्ति के साथ ऐसा करने को कहता है|

इन 7 निम्नलिखित में से किसी भी परिस्थितियों में से-

1 उस स्त्री की इच्छा के विरुद्ध।

2 उस स्त्री की सहमति के बिना।

3 उस स्त्री की सहमति से जबकि उसकी सहमति, उसे या ऐसे किसी व्यक्ति, जिससे वह हितबद्ध है, को मॄत्यु या चोट के भय में डालकर प्राप्त की गई है।

4 उस स्त्री की सहमति से, जबकि वह पुरुष यह जानता है कि वह उस स्त्री का पति नहीं है और उस स्त्री ने सहमति इसलिए दी है कि वह विश्वास करती है कि वह ऐसा पुरुष है। जिससे वह विधिपूर्वक विवाहित है या विवाहित होने का विश्वास करती है।

Advertisements

5 उस स्त्री की सहमति के साथ, जब वह ऐसी सहमति देने के समय, किसी कारणवश मन से अस्वस्थ या नशे में हो या उस व्यक्ति द्वारा व्यक्तिगत रूप से प्रबन्धित या किसी और के माध्यम से या किसी भी बदतर या हानिकारक पदार्थ के माध्यम से, जिसकी प्रकृति और परिणामों को समझने में वह स्त्री असमर्थ है।

6 उस स्त्री की सहमति या बिना सहमति के जबकि वह 18 वर्ष से कम आयु की है।

7 उस स्त्री की सहमति जब वह सहमति व्यक्त करने में असमर्थ है।

स्पटीकरण

+ योनि में भगोष्ट (महिला के बाहरी यौनांगों को मोटा हिस्सा) भी शामिल होगा|
+ सहमति का मतलब एक स्पष्ट स्वैच्छिक समझौता होता है- जब महिला शब्द, इशारों या किसी भी प्रकार के मौखिक या गैर-मौखिक संवाद से विशिष्ट
+ यौन कृत्य में भाग लेने की इच्छा व्यक्त करती है: बशर्ते एक महिला जो शारीरिक रूप से प्रवेश के लिए विरोध नहीं करती, केवल इस तथ्य के आधार पर
+ यौन गतिविधि के लिए सहमति नहीं माना जाएगा।
+ एक चिकित्सा प्रक्रिया या हस्तक्षेप बलात्कार संस्थापित नहीं करेगा।
+ बलात्संग के अपराध के लिए आवश्यक मैथुन संस्थापित करने के लिए प्रवेशन पर्याप्त है।
+ पुरुष का अपनी पत्नी के साथ सम्भोग बलात्संग (रेप) नहीं है पर जब पत्नी 15 वर्ष से कम आयु की पत्नी के साथ सम्भोग रेप है।

– Snehil Narayan

Advertisements


Share this Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *